Sharda Ke Swara

11-9-2017 – मैं बच्ची सिंह बिष्ट गाँव – देवलीबगड़, तहसील-धनौली, जिला-अल्मोड़ा उत्तराखंड से बोल रहा हूँ। यह पंचेश्वर महाकाली बाँध से पूर्ण रूप से डूब क्षेत्र में आने वाला गाँव है। यह गांव मूलभूत सुविधाओं जैसे स्वास्थ्य और सड़क से नहीं जुड़ा है, जो एक मुख्य समस्या है। इस गांव के चारों तरफ धान की खेती हो रही है। इनका कहना है कि-पंचेश्वर महाकाली बांध बनने पर इन लोगों को जबरजस्ती यहां से उठाया जा रहा है। लोग यहां से जाना नहीं चाहते क्योंकि इनके पास समृद्धि खेती, पशु-पालन, जंगल, पानी, और नदी है जिससे इनके सभी खेत सिंचित हैं।अभी यहां के लोगों से बात कर रहे है – वो अपनी समस्याएं को अलग -अलग तरीके से रख रहे हैं। लोग चाहते हैं कि भारत सरकार इनकी बात को सुने और पंचेश्वर बांध से इनको न डुबाया जाए। अगर विस्थापित होना है तो बाँध बनने से पहले इन विस्थापितों के लिए व्यवस्था होनी चाहिए।  
11-9-2017 – मैं गोपाल जोशी ग्राम – कुनगडा, जिला अल्मोड़ा उतराखण्ड का रहने वाला हूँ। हमारी पहली समस्या स्वास्थ से संबंधित है जैसे हास्पिटल का न होना। सड़क और पेयजल की समस्या भो बानी हुई है। हम सरयू नदी के किनारे बसे हैं, इस घाटी के किनारे पर होने के कारण हम पूरी तरह समस्याओं से घिरे हुए हैं पर फिर भी हम गुज़र बसर कर रहे हैं और खुश हैं। हमें बांध नही विकास चाहिए जो इस क्षेत्र से अछूता रहा है।    
11-9-2017 – मेरा नाम दतीराम ग्राम-देवलीबगड़, पोस्ट ऑफिस – धुरा, तहसील-धनौली, जिला -अल्मोड़ा का वासी हूँ। गाँव अधिकतर स्वास्थ्य की समस्या से पीड़ित है। गांव से डेढ़ किलोमीटर दूरी पर यातायात की सुविधा उपलब्ध है। अगर कोई बीमारी से पीड़ित होता है तो उसको वहां तक डोली से ले जाना पड़ता है। जल्द गांव तक सड़क हो जाएगी। अगर शिक्षा की बात करें तो हाईस्कूल कुंदला देवलीबगड़ में है वहां पर टीचर की आवश्यकता है जिसमे दो टीचर अभी भी नहीं आ रहे हैं।  
11-9-2017 – मेरा नाम चन्द्र सिंह मेहरा है, मैं ग्राम -बुसैल, पोस्ट आफिस-नेचुना बुसैल, जिला-पिथौरागढ़ उत्तराखंड का निवासी हूँ। यहाँ की मूल समस्याएं शिक्षा और स्वास्थ्य है। ANM केंद्र समाज के लिए एक बहुत छोटी बात है पर हमारे लोगों लिए यह एक बड़ी बात है। अगर कोई बीमार होता है तो उसको इलाज कराने के लिए अल्मोड़ा हल्द्वानी या पिथौरागढ़ ले जाना पड़ता है। यह दूर-दराज इलाका है, कृषकों को भी कई समस्याएं हैं। आज़ादी के बाद दशकों  बीत जाने पर पिछले वर्ष ग्राम वासियों ने  ग्राम सभा के माध्यम से गाँव में ANM केंद्र खोले जाने का प्रस्ताव ग्राम प्रधान के द्वारा रखा। अभी बीमार व्यक्ति को इलाज कराने के लिए पैदल दुसरे गाँव जाना पड़ता है। जैसे -प्रसवकालीन महिला को अस्पताल ले जाने के लिए डोली का इस्तेमाल करना पड़ता है।  कभी-कभी रास्ते में भी प्रसव  हो जाता है। एक वर्ष पहले ANM  केंद्र की डिमांड रखी गयी थी।  माननीय मुख्यमंत्री जी को भी इस बारे में चिठ्ठी लिखी गई थी, महानिदेशक, देहरादून ने जवाब दिया जिसकी प्रतिलिपि प्रधान जी के पास भी आई थी।  उसमें लिखा था कि – CMO पिथौरागढ़ द्वारा इस पर जल्द  कार्यवाही की जाए।  सम्बंधित कार्यालय, गंगोलीहाट द्वारा ग्राम प्रधान बुसैल से स्वीकृति लेने के बाद समस्त दस्तावेज वापस CMO पिथौरागढ़ को भेजा। RTI में पूछने पर ही कार्यवाही आगे बढ़ी और फाइल महानिदेशक देहरादून को भेजी गई । इसके बाद कोई कार्यवाही नहीं हुई तो ग्राम प्रधान जी ने मानवाधिकार आयोग में ग्राम बुसैल में सरकार द्वारा ANM केंद्र नही खोला जा रहा है ऐसी शिकायत दर्ज की।  उन्होंने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय विभाग के स्वास्थ्य सचिव को ग्राम बुसैल में ANM केंद्र खोले जाने का आवेदन किया। 2-3 माह  के बाद  एक चिठ्ठी आई जिसमें कोई  कारण न बताते हुए लिखा है कि ग्राम बुसैल में ANM केंद्र नहीं खुल सकता।  इस सम्बन्ध में CMO साहब या अन्य आधिकारियों को जब हमने यह जानकारी दी तो उनका कहना था कि यह शासन का मामला है हम कुछ नहीं कर सकते है। इस सम्बन्ध में हमारे यहाँ के विधायक को बताया, उन्होंने आश्वासन दिया कि वह इस सम्बन्ध में आगे बात करेंगे  
11-9-2017 – मेरा नाम राजेंद्र प्रसाद है, मैं ग्राम पंचायत-बुसैल, तहसील-गंगोलीहाट, जिला पिथौरागढ़ का वासी हूँ । मेरे गाँव की जनसंख्या 400 है। यहाँ का मुख्य व्यवसाय खेती है, गेंहूँ, धान, जौ,मटर, उड़द, बाजरा, मूंग आदि की फसल साल में दो बार होती है। पहले खेतों की सिचाईं नहर से होती थी पर अब बारिश पर निर्भर है। गाँव के लोंगो को राशन मिलता है। गाँव में स्वास्थ सम्बंधित समस्या है जैसे :-  गाँव में कोई बीमार पड़ जाये या प्रसव के दौरान महिला को डोली में बैठाकर पहाड़ियों के रास्ते  पैदल चलकर अल्मोड़ा या पिथौरागढ़ ले जाना पड़ता है।  कभी-कभी तो रास्ते में ही प्रसव हो जाता है।  इसलिए रोड होना बहुत जरुरी है। सरयू नदी की घाटी से पीने का पानी और सिचाईं करने के लिए कैनाल से पानी आता था पर गाडी की रोड आने से नहर धवस्त हो चुकी है जिसके कारण कई फलदार पेड़ भी बह गए हैं  
11-9-2017 – नरेन्द्र कुमार ग्राम – बुसैल पोस्ट- नेचुना, जिला-पिथौरागढ़ उत्तराखंड का रहने वाला हूँ। हाई स्कूल गाँव में है। आगे की पढाई करने के लिए 10-12 किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ती है। यहाँ से प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र आधा किलोमीटर दूर स्थित है। यहाँ के लोग गेहूं,धान, मक्का की खेती करते है पर सूअर, पक्षी और लंगूर फसलों को बर्बाद कर देते हैं। उसका मुआवजा भी नहीं मिलता है। इस सम्बन्ध में न ही कोई अधिकारी जाँच करने आते हैं। हमारी एक राय है कि अगर पंचेश्वर बांध बनता है तो उसका मुआवजा पूरा मिले  
मैं महेशचन्द्र  ग्राम-गोरीछाल तोली, तहसील -धारचूला, जिला-पिथौरागढ़ का रहने वाला हूँ. मैं पंचेश्वर डैम के विषय में यह कहना चाहता हूँ कि 2013 की आपदा में हमारे गाँव की 213 नाली ज़मीन गोरी नदी में समा गई थी । जिसमें 15 परिवार बेघर हो गए थे। उत्तराखंड सरकार ने नाम-मात्र मुआवजा देकर उन आपदा प्रभावित  लोगों को फिर से उसी नदी के किनारे बसा दिया। अब जो पंचेश्वर  डैम बनने  जा रहा है  उससे ज्यादा लोग डरे हुए है और हम लोगों को पंचेश्वर डैम से पूरा खतरा है । अभी तक हमारी भारत सरकार ने कोई सुध नही ली है। ना हमारे गाँव में डैम संबधित कोई कर्मचारी आये है. महोदय, भारत सरकार से यही निवेदन है पंचेश्वर डैम की सर्वे दोबारा करवाई जाये तथा  प्रभावित गाँव के लोंगों को उचित मुआवजे के साथ सुरक्षित जगहों पर बसाया जाए   
मेरा नाम राजेंद्र प्रसाद है। मैं ग्राम -बुसैल, पोस्ट-ऑफिस -नेचुना, तहसील-गंगोलीहाट, जिला-पिथौरागढ़ उत्तराखंड का वासी हूँ । यहां  मकर संक्रान्ति का त्यौहार सरयू घाटी में स्थित पंचेश्वर स्थान का खूब महत्त्व है जहाँ बहुत संख्या में लोग आते हैं । श्रावण / सावन के महीने में शिव पूजा का महत्त्व है। इन दिनों दस दिन तक लोग स्थानीय लोकगीत एवं सामुहिक नृत्य चांचरी गाते और नाचते भी हैं। कुमाउनी भाषा में गीत इस प्रकार है –

चांदी बटना दाज्यू कुर्ती कालर मा 

मेरि मधुली जैरै ब्यूटी पार्लर मा I I

यातू खानी खीरा 

धाग हुनौ तोडि दिनू त्यार मुख तीर I I

चांदी बटना दाज्यू कुर्ती कालर मा 

मेरि मधुली जैरै ब्यूटी पार्लर मा I I

संगत करनी भले भले की ,सुख मिले शरीरा  

बैठना भला सुमिरन में, मरनी जमुना तीर  II  

 
भगवान् सिंह ग्राम – सेराघाट जिला अल्मोड़ा (उत्तराखंड) से हैं. सेराघाट, सरयू नदी  की एक घाटी है. वे बता रहे हैं कि गाँव के लिए प्राथमिक और मिडिल स्कूल दो से ढाई किलोमीटर की दूरी पर पव्वाधार में है. यहाँ  पिछले साल आपदा हुई थी. बारिश का पानी घर अन्दर जाने से तीन मकान गिर गए. इनका कहना है कि कई लोगों को दो-दो लाख मुआवज़ा मिला जबकि इनको सिर्फ 5000 रुपये मुआवजा  मिला. धान, गेहूं, मक्का, मंडवा और  बाजरा की खेती होती है. हरेला,उसाड़ी और दीवाली एक दिन का त्यौहार साल भर में  मानते है  
मेरा नाम अमर सिंह, उम्र 38 वर्ष। मैं ग्राम-पंचायत -सिदांग का सरपंच और तहसील-धारचूला, जिला-पिथौरागढ़ (उत्तराखंड) का रहने वाला हूँ । हमारे ग्राम-सिदांग में एक समस्या है । यहाँ पर भू-स्खलन हो चुका है । यहाँ पहाड़ के कटान होने से गाँव में खतरा भी हो सकता है । हमारा गांव एक माइग्रेशन गांव है। यहां एक नदी आती है उसका भु-कटाव बहुत ज्यादा हो रहा है । वहां पर रहने वाले लोंगो को बहुत जयादा समस्यायें हो रही है । इसके बारे में ग्राम-पंचायत के माध्यम से आवेदन उत्तराखंड सरकार को बहुत बार किया लेकिन उस पर अनदेखी की गई । अभी तक उसका कोई जबाब नहीं आया । ऐसे ही कई वर्ष बीत गए हैं । अगर ये पहाड़ी खिसक गई तो उसके नीचे एक छोटी-सी नाली है उससे बहुत बड़ा खतरा हो सकता है । 2013 में जो आपदा आई थी, सरकार द्वारा उसकी जाँच कराने का कोई ध्यान नही दिया गया । इसके निवारण के लिए सरकार द्वारा कुछ सुविधा या चेक डैम या वृक्षारोपण की व्यवस्था या सुरक्षा दिवार बनाई जाए । यह उम्मीद हम सरकार से करते है ।  
सर नमस्कार, मै दुर्गा कोल झूलाघाट, जिला-पिथौरागढ़ से बोल रहा हूँ । झूलाघाट भी पंचेश्वर बांध के डूब क्षेत्र में आ रहा है । साहब, मैं 2013 से बेरोजगार और आपदा पीड़ित भी हूँ । मेरे इस मकान का क्या होगा ? मेरे रोजगार का क्या होगा ? मैं सरकारी रोजगार पाने की प्रतीक्षा कर रहा हूँ ? सरकार हमारी सुन नहीं रही है और हमें बेरोजगार कर रही है . हमको इससे (पंचेश्वर बांध से) क्या मिलेगा ? ये हमें कब रोजगार देंगे ? मेरा क्या होगा ? कोई तो सुने हमारी ?  
नमस्कार, – यह सन्देश विमल देवी, शोभा देवी, जानकी देवी, बलबती देवी और शांति देवी द्वारा दिया गया है । मैं पहले CRPF में जॉब करती थी और अब मिठाई की दूकान चलाती हूँ । पंचेश्वर बांध के बारे में हम बहुत कुछ बोल सकते है । मीटिंग में बाँध से विस्थापन के बारे में बहुत कुछ जानकारी और शिक्षा मिली क्योकि पंचेश्वर बांध पर बात चल रही है । अभी तक ये पता नही कि मुआवजा मिलेगा कि नहीं, रोज़गार भी मिलेगा कि नहीं । ये तो गलत है । या तो हमें पंचेश्वर बांध से ऐसी जगह विस्थापन करना चाहिए, जहां सहूलियतें हों, मुआवजा भी देना चाहिए । यह सब कुछ देना चाहिए तभी हम हटेंगे नहीं तो बिल्कुल यहाँ से नहीं हटेंगे । यह जगह हमारी जन्मभूमि है, यहाँ से जाना अच्छा नहीं लगेगा, मन नहीं मानेगा।अन्तः सरकार को भी चाहिए कि इन सब बातों का ध्यान रखते हुए मुआवजा और सम्पूर्ण विस्थापन पर विचार करे।
धन्यबाद
 
15-July-2017: – मैंदिल्ली से रमाशंकर बोल रहा हूँ,  मैंने ‘शारदा के स्वरपर अनेक संदेश सुने जिनमें कुछ प्रस्तावित बांध से भीसम्बन्धित हैं । इन संदेशों से दो चिंताएं साफ़ तौर पर सामने आ रही हैं – लोगों का कहना है कि विकास के कार्य धीमे पड़ गए हैं और डूब क्षेत्र कहाँ तक होगा और क्या नुक्सान होंगे  इसके बारे में पता नहीं है।इस सन्दर्भ में यह सूचना देनी है कि 8 जुलाई (दिन शनिवार) को दिल्ली के अंग्रेजी अखबार हिंदुस्तान टाइम्ससंस्करण के पेज 12 पर पंचेश्वर बाँध की ‘पर्यावरणीय स्वीकृति हेतु लोक सुनवाई के लिए सूचना‘ का नोटिस आया है जिसमें लिखा है कि जनसुनवाई 9 अगस्त2017 को प्रातः 12 बजे से सभागारविकास खंड बाराकोटचम्पावत में होनी है। परियोजना से सम्बंधित जमा समस्त अभिलेखों का अवलोकन इच्छुक संस्था/व्यक्ति द्वारा इन कार्यालयों में किया जा सकता है । यह कार्यालय हैं;

  1. क्षेत्रीय कार्यालय, पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय, भारत सरकार, देहरादून
  2. मुख्यालय, उत्तराखंड पर्यावरण संरक्षण एवं प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, देहरादून
  3. क्षेत्रीय कार्यालय, उत्तराखंड पर्यावरण संरक्षण एवं प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, आवास विकास कॉलोनी,हल्द्वानी;
  4. कार्यालय जिलाधिकारी, चम्पावत,
  5. कार्यालय जिला पंचायत, चम्पावत;
  6. नगर पालिका परिषद्, चम्पावत जिला उद्योग केंद्र,चम्पावत

अगर किसी को ‘वाहट्स एप्प’ पर यह नोटिस पढ़ना है तो अपने  नंबर से ‘74094 65288’ पर मिस्ड कॉल दें,वापिस कॉल आने पर निर्देश सुनें और अपना सन्देश रिकॉर्ड करें।

15-July-2017: – नमस्कार, मै ललित पंत, ग्राम तारागढ़ा, पोस्ट – सल्ला,  तहसील-जिला – पिथौरागढ़ (उत्तराखंड) से हूँ . जो ये पंचेश्वर बांध बनता है तो  डूब क्षेत्र में है  ।  डूब क्षेत्र के विस्थापन को लेकर स्थानीय निवासी चिंतित है I समाचार पत्रों में जनसुनवाई की भी चर्चा चल रही है , जनसुनवाई का स्थान जिले में रखा है I जिला डूब क्षेत्र से 40 किलो-मीटर की दुरी पर है I  डूब क्षेत्र के लोग निर्धन और गरीब है,  दूरी अधिक होने से जनसुनवाई में  नही पहुँच सकते है I स्थानीय लोग चाहते है कि जनसुनवाई  डूब क्षेत्र में हो, जिससे वह अपनी बात कह सके . जनसुनवाई में स्थानीय  लोगो  को भी शामिल किया जाय I हमारा स्वयं सेवी संस्थाओं से भी आग्रह है की ऐसी स्थिति में क्षेत्र वाशियों  को मार्गदर्शन दे प्रधानमंत्री जी भी पंचेश्वर बाँध के बारे में चर्चा की थी . हम यह सन्देश प्रधानमंत्री जी के तक  पहुँचाना चाहते है की जनसुनवाई में डूब क्षेत्र में ही हो I डूब क्षेत्र का ठीक से विस्थापन और जनसुनवाई में स्थानीय लोगो को भी  शामिल करें I सुबिधा नही होने अधिकारी डूब क्षेत्र में नही आना चाहते है ,डूब क्षेत्र में सुबिधा न होने से डूब क्षेत्र से जा चुके है जो लोग अभी डूब क्षेत्र में रह रहे है अशिक्षित  और निर्धन है वो लोग अपनी बात स्थानीय लोगो के माध्यम से ही रख सकते है I  धन्यबाद  
नमस्कार मै ललित पंत, ग्राम तारागढ़ा पोस्ट -सल्ला तहसील-जिला – पिथौरागढ़ उत्तराखंड से हूँ . मैं पंचेश्वर डैम के बनने से डूब क्षेत्र में रहता हूँ । गाँव की समस्या मुख्य रूप से रोड और अस्पताल न होने से बीमार व्यक्ति को रोड में पहुचने के लिए डोली का सहारा लेना पड़ता है , जो मुख्यतः 6-7 किलो मीटर का खडी चढ़ाई है । ग्राम में कक्षा 6 के बाद गाँव में स्कूल नही है .बच्चे 6-7 किलो मीटर की चढ़ाई करके स्कूल चलकर पहुंचते है या तो पढाई छोड़ देते है । गाँव में सभी लोग अशिक्षित है । साग-सब्जी फल-फूल अच्छी मात्र में होते है जो मुख्य रूप से कटहल ,केला ,आम ,अमरुद होता है जो रोड की सुविधा न होने से बाजार पर नही पहुँच पता है । जिसका गाँव वाले को कोई लाभ नही होता है । समय-समय पर पंचेश्वर बाँध की चर्चा चलती है । जिसके कारण टनकपुर-जौलजीवी का काम भी रुका है। पंचेश्वर बाँध की चर्चा न होती तो आज तक यह रोड पूरी बन जाती और क्षेत्र का विकास भी हो जाता है । अगर सरकार बांध ही बनाना चाहती है तो इसमें तेजी दिखाए ताकि गाँव का ठीक से विस्थापन हो और उचित व्यवस्था हो। अन्यथा बाँध नही बनता है तो सड़क निर्माण कराया जाए । गाँव के विकास का योगदान होगा । इस बात को लेकर लोंगो में काफी चिंता है कहाँ विस्थापन करेंगे और कहाँ व्यवस्था होगी । गाँव वाले से किसी अधिकारी या विभाग ने संपर्क नहीं किया। गाँव वाले इसी आशा में रहते है कभी तो हमारे गाँव तो जुड़ेगा। अधिक मात्रा में गाँव वाले रोड न होने से गाँव छोड़ चुके है । बड़ा दुःख होता है जब गाँव में बुजुर्ग माता-पिता ही घर की रखवाली करते है ।  
 नरेन्द्र बदायु (उत्तर प्रदेश) से परिवार के 3 सदस्य पूर्णागिरी के दर्शन करने के लिए चार से अधिक बार आ चुके है. अधिकतर आकर टुन्यास धर्मशाला में रुकते है और सुबह होते ही दर्शन करके ब्रम्हदेव आ जाते है फिर शाम को अपने घर की ओर लौट जाते है. उत्तराखंड सरकार आपातकालीन सेवा 100 पुलिस ,108 एम्बुलेंस और 102 जननी सुरक्षा यदि शुरू न हो तो शुरू कराया जाये.

  • समस्या एवं सुधार
  • नि:शुल्क ठंडापानी रोड (ठुलीगाड़ से टुन्यास तक) में व्यवस्था हो
  • नि:शुल्क शौचालय बनबाया जाये
  • पैदल यात्रियों(ठुलीगाड़ से टुन्यास के बीच-बीच में पानी वाले हैंडपंप में सुधारहोना चाहिए
  • सरकार द्वारा धर्मशाला शौचालय /स्नानागार बनबाया जाये
  • 108 एम्बुलेंस (चिकित्सा सेवा) आपातकालीन सेवा  उपलब्ध हो
  • 100 (पुलिस) आपातकालीन सेवा उपलब्ध हो
 
अनिल सिंह राठौर रुद्रपुर, जिला-उधमसिंहनगर (उत्तराखंड) 08/05/2017 को पूर्णागिरी में दर्शन करने के लिए परिवार से 10 सदस्य आये. ये चार वर्ष से लगातार दर्शनों के लिए आ रहे है. आप एक रात टुन्यास धर्मशाला में विश्राम भी किये है. यहाँ की सफाई व्यवस्था ,पानी ,शौचालय और स्नानागार अच्छा है. मंदिर से लौटते वक्त थोडा थकान भी महसूस हुआ. इनके परिवार के पूर्णागिरी में  कुछ समस्या एवं सुधार कराने की निम्न बात किये हैसमस्या एवं सुधार

  • ठुलिगाड और  टुन्यास के प्रवेश द्वार में सामान चेक करने वाली मशीन (जैसे दिल्ली के मैट्रो स्टेशन में) होनी चाहिए
  • दुकानदार द्वारा प्रसाद 251 रुपये का दिया गया जबकि वही प्रसाद अगर टनकपुर में लिया जाए तो 50 रुपये का मिलेगा. उचित रेट में प्रसाद दिया जाय
  • धर्मशाला में सबसे पहले अच्छे स्थान पर रोका जाता है और मंदिर में दर्शन करके वापस आने पर दुसरे जगह में भेज दिया जाता है. उसमे शौचालय की सुविधा अच्छी नही होती है
  • धर्मशाला के अन्दर शौचालय /स्नानागार में पानी कम उपयोग करने देते है
  • चिकित्सा सेवा उपलब्ध नही
 
मुकेश कुमार ग्राम -अतरौली जिला अलीगढ (उत्तर प्रदेश) से परिवार के 07 सदस्यों के साथ आये है. यहाँ दूसरी बार आये है. इनकी बहन नीरज का स्वास्थ रात में ख़राब होने से उल्टी होने लगी. इसके रोकथाम के लिए टनकपुर से टुन्यास धर्मशाला तक दवा की खोज करते रहे लेकिन दवा नही मिली जबकि जिला पंचायत द्वारा चिकित्सा सेवा उपलब्ध करायी गयी लेकिन वहां पर कोई भी उपस्थित नही थासमस्या एवं सुधार

  • नि:शुल्क ठंडापानी की व्यवस्था हो
  • चिकित्सा सेवा उपलब्ध हो
 
ओम प्रकाश ग्राम-नगलावाले शाबरगेट, जिला-कासगंज (उ०प्र०) परिवार से 08 सदस्य पूर्णागिरी मेंले में पहली बार आये हुए है I इनके द्वारा बताया गया की जब श्रद्धालू मंदिर से दर्शन करके वापस  लौटते समय जितने रास्ते में धर्मशाला पड़ते है तो किसी को बैठने नही दिया जाता है उनका कहना है की आप जहां अपना सामान (प्रसाद) लिए है वहां जा कर बैठो और भगा दिया जाता है  
आकाश जिला सम्भलपुर (उ०सि०न०) पूर्णागिरी मेले में चौथी बार अपने 55 मित्रो के साथ माँ के दर्शन करने आये. एक रात टुन्यास धर्मशाला में रुके वहां की सफाई व्यवस्था अच्छी थी. उन्होंने ये निम्न जानकारी दिए –

  1. चिकित्सा सेवा उपलब्ध नही
  2. दर्शन करने वाले श्रद्धालूओ की लाइन महिला/पुरुष की अलग-अलग लगाई जाये मंदिर में चढ़ने बाला एक प्रसाद को सालों-साल (प्रसाद (नारियल) दुकानदार से लेकर श्रद्धालू मंदिर  में चढ़ाता है लेकिन वैसे का वैसे पुजारी द्वारा फिर वाही  प्रसाद वापस उसी दुकान में चला जाता है) चलाया जाता है
  3. श्रद्धालूओ को दर्शन 1 मिनट भी नही करने दिया जाता है
 
अशोक कुमार (पूर्णागिरी मेला 80 सफाई कर्मचारियो का ढेकेदार) ठुलीगाड़, टुन्यास  से पूर्णागिरी मंदिर तक इनके 80 सफाई कर्मचारी सफाई व्यवस्था (रोड सफाई) में लगे है जिनको 7000-9000 रूपये प्रत्येक व्यक्ति को मिलता है. जब इनसे जानकारी लिया गाया तो इनका कहना है कि जिला पंचायत चम्पावत से ठेका में मुझे  ठुलीगाड़,  टुन्यास से पूर्णागिरी मंदिर तक का है. * (ठोस कूड़े के निस्तारण पर रुपये 16,51,052.00 का व्यय आता है जिसके निस्तारण के लिए मेला अवधि में 80 सफाई कर्मचारी नियुक्ति किये गए है. उन्होंने बताया की मल-जल निस्तारण हेतु सैफ्टिक टैंक बनाये गए है लेकिन सीवर नही लगाया गया है)यहाँ सफाई के दौरान जो भी कूड़ा निकलता है उसके निस्तारण के लिए कुछ नही है बल्कि समस्त कूड़ा नदी में फेक दिया जाता है और बरसात के पानी के साथ पूरा कूड़ा-कचरा बह जाता है I नदी का पानी मठ-मैला हो जाता है जो पीने योग्य नही रहता है.

प्रबन्धन (सफाई-कर्मचारियों) द्वारा मेला आधिकारी को कई बार अवगत कराया गया लेकिन अभी विभाग द्वारा कोई कार्यवाही नही हुयी है I  ठुलीगाड़ में नल जल योजना (बड़ी पानी की टंकी ) के तहत बनबाया जाये ताकि पानी पीने का स्वच्छ मिल सके. अभी झरने का पानी मिल रहा है जो बरसात के समय वो भी ख़राब हो जाता हैं.

 
महिला सशक्तिकरण बाल विकास परियोजना (आँगनवाड़ी कार्यकर्ता समस्त )  बहुउद्देशिय शिविर – श्री मती ममता देवी आँगनवाडी कार्यकर्ता  केंद्र सियाला एवं श्रीमती आरती देवी  आँगनवाडी कार्यकर्ता  केंद्र तुमडानीगेटबहुउद्देशिय शिविर महिला सशक्तिकरण बाल विकास परियोजना (आँगनवाड़ी कार्यकर्ता समस्त ) जनपद पंचायत टनकपुर-बनबसा द्वारा  आयोजन पूर्णागिरी मेले के शुरुआत से अंतिम तक एक दिन में दो  आगनवाडी कार्यकर्ता द्वारा ठुलीगाड़ मेला आधिकारी के बगल में शिविर  लगाया जाता है. श्रीमती ममता देवी आँगनवाडी कार्यकर्ता  केंद्र – सियाला एवं श्रीमती आरती देवी  आँगनवाडी कार्यकर्ता  केंद्र -तुमडानीगेट को उपस्थित है .

प्रत्येक आँगनवाडी कार्यकर्ता द्वारा पूर्णागिरी मेले से आने वाले श्रद्धालू से बात-चीत कर उनको भी बाल विकास परियोजना के बारे में ये निम्न जानकारी देते है 

  1. पूरक पोषण आहार
  2. स्वास्थ्य जांच
  3. संदर्भ सेवाएँ
  4. टीकाकरण
  5. पोषण एवं स्वास्थ्य शिक्षा
  6. स्कूल पूर्व अनौपचारिक शिक्षा
  7. कन्या भ्रूण हत्या आदि I 

नोट :- * जिले के विभिन्न आंगनबाड़ी केन्द्रों में पंजीकृत बच्चों की संख्या 23 424 है। इसमें 4560 कुपोषित तथा 301 अतिकुपोषित हैं। यह आंकड़े वर्ष 2013 से 2017 जनवरी तक के हैं। पिछले चार वर्षों में कुपोषित और अतिकुपोषित बच्चों की संख्या में काफी कमी दर्ज की गई है। जिले में 397 पूर्ण आंगनबाड़ी केन्द्र एवं 284 मिनी आंगनबाड़ी केन्द्र हैं

 
Bhuvan Garkoti from Banbasa is telling about the ongoing Purnagiri mela where people from various Indian states and Nepal visit the temple. He is informing that if some children are separated, one can take help of police beat located at Thuligad. He also tells about human trafficking in this border area and request for any information about such instances which will help save few lives from falling into the trap of evil hands.  
Mahesh ram from Sirmoda village is telling that they have stopped consuming water from a source because of a thick white brown deposit settled in the tank and many times they have to clean the pipes too as chunks/pieces come alongwith water through pipes. This village is enroute Jhulaghat.  
Bachi S Bisht is giving information about a small meeting in Rameshwar (Confluence of Saryu and Eastern Ramganga) on 22 April and asking the local groups to come and participate.  
Umed singh negi from gram sabha chakarpur bilhari is telling about poor state of health, road, electricity and other basic services in the village  
Message from a resident in Mahakali basin telling about probably submergence of area due to the proposed dam and that better rehabilitation package must be ensured whenever the project materialises and possible employment must be thought about for long term sustenance  
Ganesh Bohra from Chuka at the foothill across Purnagiri shrine is telling about the chalthi and Ladhiya valley and how people are struggling with wild boar problem in the region. Click here to read news about the issue.  
Bachi Singh Bisht from Ganai Gangoli is telling about the river confluence meetings on the issues in valleys from 16th April to 26th April at 3-4 places, pl listen for more details.  
Rajendra Prasad from Ladhiya valley is apprising of the 5th March conclave where suggestions were given by participants to form a committee to formulate a plan for valley. He briefly gave broad examples of floriculture, horticulture and cottage industry. Read News related to the issue  
बची सिंह बिष्ट शेराघाट घाटी में बैठक के बारें में बता रहे है  जिसमे जयगंगा, जयगढ़, सरयू एवं सुरूर घाटी के साथी अपनी समस्याओं पर चर्चा कर रहे हैं.  
दीवान सिंह मेहता सेराघाट, सरयू घाटी के रहने वाले हैं और उनका कहना है कि यहाँ प्रदुषण की समस्या है और उन्होंने गंगा सफाई अभियान को एक अच्छा कदम बताया और बाकी सभी लोगों को जुड़ने और साफ़ सफाई रखने की गुज़ारिश की।  
ललित पन्त जी ने डूब क्षेत्र को कहाँ विस्थापित किया जाएगा उस पर सूचना मांगी है (पर वह किस क्षेत्र की बात कर रहे हैं उन्होंने नहीं बताया)  
गांव भूसैल  के मोहन राम जी बता रहे हैं कि वहां की जो कैनाल है वह सड़क निर्माण के कार्य के चलते ध्वस्त हो गई है पर उसकी सुध लेने वाला कोई नहीं है. विभाग को इसके बारे में कुछ करना चाहिए नहीं तो सड़क तो बनेगी पर ऐसे अन्य अवसंरचनाएं बेकार होती जाएँगी.  Read news related to the issue News 1, News 2  
नई दिल्ली से पूजा गुप्ता बता रही हैं की  पिछले सप्ताह उत्तराखण्ड के चम्पावत जिले में कुछ स्थानीय निवासियों के साथ एक जन सम्मेलन का आयोजन किया गया था जिसके माध्यम से ये जानकारी मिली कि यहाँ जानवरों का आतंक काफी बढ़ गया है विशेष कर सूअरों का आतंक ! इसके अलावा जलवायु परिवर्तन से जो स्थिति हुई है उससे कृषि पर काफी प्रभाव पड़ा है ! लोगो ने यह भी बताया की अगर उन्हें मत्स्य पालन की सुविधा,फलों और फूलो से चलने वाले छोटे-छोटे स्थानीय उद्योग की सुविधा दी जाए तो उनके लिए अच्छा होगा !  
राधा खनका उत्तरापंथ सेवा संस्था (मुवानी) से जुडी हैं और वह सूअर व अन्य जंगली जानवरों से उत्पन्न हुई समस्या का विवरण कर रही हैं। यह भी बता रहीं हैं कि जंगल कटने से जल और जल वायु परिवर्तन हो रहा है, भूस्खलन पेड़ों के काटने से बढ़ता जा रहा है – १० साल पहले के जंगल हरे भरे थे  
   
   
   
11-9-2017 – मेरा नाम चन्द्र सिंह मेमैं बच्ची सिंह बिष्ट गाँव – देवलीबगड़, तहसील-धनौली, जिला-अल्मोड़ा उत्तराखंड से बोल रहा हूँ। यह पंचेश्वर महाकाली बाँध से पूर्ण रूप से डूब क्षेत्र में आने वाला गाँव है। यह गांव मूलभूत सुविधाओं जैसे स्वास्थ्य और सड़क से नहीं जुड़ा है, जो एक मुख्य समस्या है। इस गांव के चारों तरफ धान की खेती हो रही है। इनका कहना है कि-पंचेश्वर महाकाली बांध बनने पर इन लोगों को जबरजस्ती यहां से उठाया जा रहा है। लोग यहां से जाना नहीं चाहते क्योंकि इनके पास समृद्धि खेती, पशु-पालन, जंगल, पानी, और नदी है जिससे इनके सभी खेत सिंचित हैं।अभी यहां के लोगों से बात कर रहे है – वो अपनी समस्याएं को अलग -अलग तरीके से रख रहे हैं। लोग चाहते हैं कि भारत सरकार इनकी बात को सुने और पंचेश्वर बांध से इनको न डुबाया जाए। अगर विस्थापित होना है तो बाँध बनने से पहले इन विस्थापितों के लिए व्यवस्था होनी चाहिए।

हरा है, मैं ग्राम -बुसैल, पोस्ट आफिस-नेचुना बुसैल, जिला-पिथौरागढ़ उत्तराखंड का निवासी हूँ। यहाँ की मूल समस्याएं शिक्षा और स्वास्थ्य है। ANM केंद्र समाज के लिए एक बहुत छोटी बात है पर हमारे लोगों लिए यह एक बड़ी बात है। अगर कोई बीमार होता है तो उसको इलाज कराने के लिए अल्मोड़ा हल्द्वानी या पिथौरागढ़ ले जाना पड़ता है। यह दूर-दराज इलाका है, कृषकों को भी कई समस्याएं हैं। आज़ादी के बाद दशकों  बीत जाने पर पिछले वर्ष ग्राम वासियों ने  ग्राम सभा के माध्यम से गाँव में ANM केंद्र खोले जाने का प्रस्ताव ग्राम प्रधान के द्वारा रखा। अभी बीमार व्यक्ति को इलाज कराने के लिए पैदल दुसरे गाँव जाना पड़ता है। जैसे -प्रसवकालीन महिला को अस्पताल ले जाने के लिए डोली का इस्तेमाल करना पड़ता है।  कभी-कभी रास्ते में भी प्रसव  हो जाता है। एक वर्ष पहले ANM  केंद्र की डिमांड रखी गयी थी।  माननीय मुख्यमंत्री जी को भी इस बारे में चिठ्ठी लिखी गई थी, महानिदेशक, देहरादून ने जवाब दिया जिसकी प्रतिलिपि प्रधान जी के पास भी आई थी।  उसमें लिखा था कि – CMO पिथौरागढ़ द्वारा इस पर जल्द  कार्यवाही की जाए।  सम्बंधित कार्यालय, गंगोलीहाट द्वारा ग्राम प्रधान बुसैल से स्वीकृति लेने के बाद समस्त दस्तावेज वापस CMO पिथौरागढ़ को भेजा। RTI में पूछने पर ही कार्यवाही आगे बढ़ी और फाइल महानिदेशक देहरादून को भेजी गई । इसके बाद कोई कार्यवाही नहीं हुई तो ग्राम प्रधान जी ने मानवाधिकार आयोग में ग्राम बुसैल में सरकार द्वारा ANM केंद्र नही खोला जा रहा है ऐसी शिकायत दर्ज की।  उन्होंने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय विभाग के स्वास्थ्य सचिव को ग्राम बुसैल में ANM केंद्र खोले जाने का आवेदन किया। 2-3 माह  के बाद  एक चिठ्ठी आई जिसमें कोई  कारण न बताते हुए लिखा है कि ग्राम बुसैल में ANM केंद्र नहीं खुल सकता।  इस सम्बन्ध में CMO साहब या अन्य आधिकारियों को जब हमने यह जानकारी दी तो उनका कहना था कि यह शासन का मामला है हम कुछ नहीं कर सकते है। इस सम्बन्ध में हमारे यहाँ के विधायक को बताया, उन्होंने आश्वासन दिया कि वह इस सम्बन्ध में आगे बात करेंगे

 
11-9-2017 – मेरा नाम राजेंद्र प्रसाद है, मैं ग्राम पंचायत-बुसैल, तहसील-गंगोलीहाट, जिला पिथौरागढ़ का वासी हूँ । मेरे गाँव की जनसंख्या 400 है। यहाँ का मुख्य व्यवसाय खेती है, गेंहूँ, धान, जौ,मटर, उड़द, बाजरा, मूंग आदि की फसल साल में दो बार होती है। पहले खेतों की सिचाईं नहर से होती थी पर अब बारिश पर निर्भर है। गाँव के लोंगो को राशन मिलता है। गाँव में स्वास्थ सम्बंधित समस्या है जैसे :-  गाँव में कोई बीमार पड़ जाये या प्रसव के दौरान महिला को डोली में बैठाकर पहाड़ियों के रास्ते  पैदल चलकर अल्मोड़ा या पिथौरागढ़ ले जाना पड़ता है।  कभी-कभी तो रास्ते में ही प्रसव हो जाता है।  इसलिए रोड होना बहुत जरुरी है। सरयू नदी की घाटी से पीने का पानी और सिचाईं करने के लिए कैनाल से पानी आता था पर गाडी की रोड आने से नहर धवस्त हो चुकी है जिसके कारण कई फलदार पेड़ भी बह गए हैं  
11-9-2017 – नरेन्द्र कुमार ग्राम – बुसैल पोस्ट- नेचुना, जिला-पिथौरागढ़ उत्तराखंड का रहने वाला हूँ। हाई स्कूल गाँव में है। आगे की पढाई करने के लिए 10-12 किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ती है। यहाँ से प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र आधा किलोमीटर दूर स्थित है। यहाँ के लोग गेहूं,धान, मक्का की खेती करते है पर सूअर, पक्षी और लंगूर फसलों को बर्बाद कर देते हैं। उसका मुआवजा भी नहीं मिलता है। इस सम्बन्ध में न ही कोई अधिकारी जाँच करने आते हैं। हमारी एक राय है कि अगर पंचेश्वर बांध बनता है तो उसका मुआवजा पूरा मिले  
मैं महेशचन्द्र  ग्राम-गोरीछाल तोली, तहसील -धारचूला, जिला-पिथौरागढ़ का रहने वाला हूँ. मैं पंचेश्वर डैम के विषय में यह कहना चाहता हूँ कि 2013 की आपदा में हमारे गाँव की 213 नाली ज़मीन गोरी नदी में समा गई थी । जिसमें 15 परिवार बेघर हो गए थे। उत्तराखंड सरकार ने नाम-मात्र मुआवजा देकर उन आपदा प्रभावित  लोगों को फिर से उसी नदी के किनारे बसा दिया। अब जो पंचेश्वर  डैम बनने  जा रहा है  उससे ज्यादा लोग डरे हुए है और हम लोगों को पंचेश्वर डैम से पूरा खतरा है । अभी तक हमारी भारत सरकार ने कोई सुध नही ली है। ना हमारे गाँव में डैम संबधित कोई कर्मचारी आये है. महोदय, भारत सरकार से यही निवेदन है पंचेश्वर डैम की सर्वे दोबारा करवाई जाये तथा  प्रभावित गाँव के लोंगों को उचित मुआवजे के साथ सुरक्षित जगहों पर बसाया जाए   
मेरा नाम राजेंद्र प्रसाद है। मैं ग्राम -बुसैल, पोस्ट-ऑफिस -नेचुना, तहसील-गंगोलीहाट, जिला-पिथौरागढ़ उत्तराखंड का वासी हूँ । यहां  मकर संक्रान्ति का त्यौहार सरयू घाटी में स्थित पंचेश्वर स्थान का खूब महत्त्व है जहाँ बहुत संख्या में लोग आते हैं । श्रावण / सावन के महीने में शिव पूजा का महत्त्व है। इन दिनों दस दिन तक लोग स्थानीय लोकगीत एवं सामुहिक नृत्य चांचरी गाते और नाचते भी हैं। कुमाउनी भाषा में गीत इस प्रकार है –

चांदी बटना दाज्यू कुर्ती कालर मा 

मेरि मधुली जैरै ब्यूटी पार्लर मा I I

यातू खानी खीरा 

धाग हुनौ तोडि दिनू त्यार मुख तीर I I

चांदी बटना दाज्यू कुर्ती कालर मा 

मेरि मधुली जैरै ब्यूटी पार्लर मा I I

संगत करनी भले भले की ,सुख मिले शरीरा  

बैठना भला सुमिरन में, मरनी जमुना तीर  II  

 
भगवान् सिंह ग्राम – सेराघाट जिला अल्मोड़ा (उत्तराखंड) से हैं. सेराघाट, सरयू नदी  की एक घाटी है. वे बता रहे हैं कि गाँव के लिए प्राथमिक और मिडिल स्कूल दो से ढाई किलोमीटर की दूरी पर पव्वाधार में है. यहाँ  पिछले साल आपदा हुई थी. बारिश का पानी घर अन्दर जाने से तीन मकान गिर गए. इनका कहना है कि कई लोगों को दो-दो लाख मुआवज़ा मिला जबकि इनको सिर्फ 5000 रुपये मुआवजा  मिला. धान, गेहूं, मक्का, मंडवा और  बाजरा की खेती होती है. हरेला,उसाड़ी और दीवाली एक दिन का त्यौहार साल भर में  मानते है  
मेरा नाम अमर सिंह, उम्र 38 वर्ष। मैं ग्राम-पंचायत -सिदांग का सरपंच और तहसील-धारचूला, जिला-पिथौरागढ़ (उत्तराखंड) का रहने वाला हूँ । हमारे ग्राम-सिदांग में एक समस्या है । यहाँ पर भू-स्खलन हो चुका है । यहाँ पहाड़ के कटान होने से गाँव में खतरा भी हो सकता है । हमारा गांव एक माइग्रेशन गांव है। यहां एक नदी आती है उसका भु-कटाव बहुत ज्यादा हो रहा है । वहां पर रहने वाले लोंगो को बहुत जयादा समस्यायें हो रही है । इसके बारे में ग्राम-पंचायत के माध्यम से आवेदन उत्तराखंड सरकार को बहुत बार किया लेकिन उस पर अनदेखी की गई । अभी तक उसका कोई जबाब नहीं आया । ऐसे ही कई वर्ष बीत गए हैं । अगर ये पहाड़ी खिसक गई तो उसके नीचे एक छोटी-सी नाली है उससे बहुत बड़ा खतरा हो सकता है । 2013 में जो आपदा आई थी, सरकार द्वारा उसकी जाँच कराने का कोई ध्यान नही दिया गया । इसके निवारण के लिए सरकार द्वारा कुछ सुविधा या चेक डैम या वृक्षारोपण की व्यवस्था या सुरक्षा दिवार बनाई जाए । यह उम्मीद हम सरकार से करते है ।  
सर नमस्कार, मै दुर्गा कोल झूलाघाट, जिला-पिथौरागढ़ से बोल रहा हूँ । झूलाघाट भी पंचेश्वर बांध के डूब क्षेत्र में आ रहा है । साहब, मैं 2013 से बेरोजगार और आपदा पीड़ित भी हूँ । मेरे इस मकान का क्या होगा ? मेरे रोजगार का क्या होगा ? मैं सरकारी रोजगार पाने की प्रतीक्षा कर रहा हूँ ? सरकार हमारी सुन नहीं रही है और हमें बेरोजगार कर रही है . हमको इससे (पंचेश्वर बांध से) क्या मिलेगा ? ये हमें कब रोजगार देंगे ? मेरा क्या होगा ? कोई तो सुने हमारी ?  
नमस्कार, – यह सन्देश विमल देवी, शोभा देवी, जानकी देवी, बलबती देवी और शांति देवी द्वारा दिया गया है । मैं पहले CRPF में जॉब करती थी और अब मिठाई की दूकान चलाती हूँ । पंचेश्वर बांध के बारे में हम बहुत कुछ बोल सकते है । मीटिंग में बाँध से विस्थापन के बारे में बहुत कुछ जानकारी और शिक्षा मिली क्योकि पंचेश्वर बांध पर बात चल रही है । अभी तक ये पता नही कि मुआवजा मिलेगा कि नहीं, रोज़गार भी मिलेगा कि नहीं । ये तो गलत है । या तो हमें पंचेश्वर बांध से ऐसी जगह विस्थापन करना चाहिए, जहां सहूलियतें हों, मुआवजा भी देना चाहिए । यह सब कुछ देना चाहिए तभी हम हटेंगे नहीं तो बिल्कुल यहाँ से नहीं हटेंगे । यह जगह हमारी जन्मभूमि है, यहाँ से जाना अच्छा नहीं लगेगा, मन नहीं मानेगा।अन्तः सरकार को भी चाहिए कि इन सब बातों का ध्यान रखते हुए मुआवजा और सम्पूर्ण विस्थापन पर विचार करे।
धन्यबाद
 
15-July-2017: – मैंदिल्ली से रमाशंकर बोल रहा हूँ,  मैंने ‘शारदा के स्वरपर अनेक संदेश सुने जिनमें कुछ प्रस्तावित बांध से भीसम्बन्धित हैं । इन संदेशों से दो चिंताएं साफ़ तौर पर सामने आ रही हैं – लोगों का कहना है कि विकास के कार्य धीमे पड़ गए हैं और डूब क्षेत्र कहाँ तक होगा और क्या नुक्सान होंगे  इसके बारे में पता नहीं है।इस सन्दर्भ में यह सूचना देनी है कि 8 जुलाई (दिन शनिवार) को दिल्ली के अंग्रेजी अखबार हिंदुस्तान टाइम्ससंस्करण के पेज 12 पर पंचेश्वर बाँध की ‘पर्यावरणीय स्वीकृति हेतु लोक सुनवाई के लिए सूचना‘ का नोटिस आया है जिसमें लिखा है कि जनसुनवाई 9 अगस्त2017 को प्रातः 12 बजे से सभागारविकास खंड बाराकोटचम्पावत में होनी है। परियोजना से सम्बंधित जमा समस्त अभिलेखों का अवलोकन इच्छुक संस्था/व्यक्ति द्वारा इन कार्यालयों में किया जा सकता है । यह कार्यालय हैं;

  1. क्षेत्रीय कार्यालय, पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय, भारत सरकार, देहरादून
  2. मुख्यालय, उत्तराखंड पर्यावरण संरक्षण एवं प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, देहरादून
  3. क्षेत्रीय कार्यालय, उत्तराखंड पर्यावरण संरक्षण एवं प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, आवास विकास कॉलोनी,हल्द्वानी;
  4. कार्यालय जिलाधिकारी, चम्पावत,
  5. कार्यालय जिला पंचायत, चम्पावत;
  6. नगर पालिका परिषद्, चम्पावत जिला उद्योग केंद्र,चम्पावत

अगर किसी को ‘वाहट्स एप्प’ पर यह नोटिस पढ़ना है तो अपने  नंबर से ‘74094 65288’ पर मिस्ड कॉल दें,वापिस कॉल आने पर निर्देश सुनें और अपना सन्देश रिकॉर्ड करें।

15-July-2017: – नमस्कार, मै ललित पंत, ग्राम तारागढ़ा, पोस्ट – सल्ला,  तहसील-जिला – पिथौरागढ़ (उत्तराखंड) से हूँ . जो ये पंचेश्वर बांध बनता है तो  डूब क्षेत्र में है  ।  डूब क्षेत्र के विस्थापन को लेकर स्थानीय निवासी चिंतित है I समाचार पत्रों में जनसुनवाई की भी चर्चा चल रही है , जनसुनवाई का स्थान जिले में रखा है I जिला डूब क्षेत्र से 40 किलो-मीटर की दुरी पर है I  डूब क्षेत्र के लोग निर्धन और गरीब है,  दूरी अधिक होने से जनसुनवाई में  नही पहुँच सकते है I स्थानीय लोग चाहते है कि जनसुनवाई  डूब क्षेत्र में हो, जिससे वह अपनी बात कह सके . जनसुनवाई में स्थानीय  लोगो  को भी शामिल किया जाय I हमारा स्वयं सेवी संस्थाओं से भी आग्रह है की ऐसी स्थिति में क्षेत्र वाशियों  को मार्गदर्शन दे प्रधानमंत्री जी भी पंचेश्वर बाँध के बारे में चर्चा की थी . हम यह सन्देश प्रधानमंत्री जी के तक  पहुँचाना चाहते है की जनसुनवाई में डूब क्षेत्र में ही हो I डूब क्षेत्र का ठीक से विस्थापन और जनसुनवाई में स्थानीय लोगो को भी  शामिल करें I सुबिधा नही होने अधिकारी डूब क्षेत्र में नही आना चाहते है ,डूब क्षेत्र में सुबिधा न होने से डूब क्षेत्र से जा चुके है जो लोग अभी डूब क्षेत्र में रह रहे है अशिक्षित  और निर्धन है वो लोग अपनी बात स्थानीय लोगो के माध्यम से ही रख सकते है I  धन्यबाद  
नमस्कार मै ललित पंत, ग्राम तारागढ़ा पोस्ट -सल्ला तहसील-जिला – पिथौरागढ़ उत्तराखंड से हूँ . मैं पंचेश्वर डैम के बनने से डूब क्षेत्र में रहता हूँ । गाँव की समस्या मुख्य रूप से रोड और अस्पताल न होने से बीमार व्यक्ति को रोड में पहुचने के लिए डोली का सहारा लेना पड़ता है , जो मुख्यतः 6-7 किलो मीटर का खडी चढ़ाई है । ग्राम में कक्षा 6 के बाद गाँव में स्कूल नही है .बच्चे 6-7 किलो मीटर की चढ़ाई करके स्कूल चलकर पहुंचते है या तो पढाई छोड़ देते है । गाँव में सभी लोग अशिक्षित है । साग-सब्जी फल-फूल अच्छी मात्र में होते है जो मुख्य रूप से कटहल ,केला ,आम ,अमरुद होता है जो रोड की सुविधा न होने से बाजार पर नही पहुँच पता है । जिसका गाँव वाले को कोई लाभ नही होता है । समय-समय पर पंचेश्वर बाँध की चर्चा चलती है । जिसके कारण टनकपुर-जौलजीवी का काम भी रुका है। पंचेश्वर बाँध की चर्चा न होती तो आज तक यह रोड पूरी बन जाती और क्षेत्र का विकास भी हो जाता है । अगर सरकार बांध ही बनाना चाहती है तो इसमें तेजी दिखाए ताकि गाँव का ठीक से विस्थापन हो और उचित व्यवस्था हो। अन्यथा बाँध नही बनता है तो सड़क निर्माण कराया जाए । गाँव के विकास का योगदान होगा । इस बात को लेकर लोंगो में काफी चिंता है कहाँ विस्थापन करेंगे और कहाँ व्यवस्था होगी । गाँव वाले से किसी अधिकारी या विभाग ने संपर्क नहीं किया। गाँव वाले इसी आशा में रहते है कभी तो हमारे गाँव तो जुड़ेगा। अधिक मात्रा में गाँव वाले रोड न होने से गाँव छोड़ चुके है । बड़ा दुःख होता है जब गाँव में बुजुर्ग माता-पिता ही घर की रखवाली करते है ।  
 नरेन्द्र बदायु (उत्तर प्रदेश) से परिवार के 3 सदस्य पूर्णागिरी के दर्शन करने के लिए चार से अधिक बार आ चुके है. अधिकतर आकर टुन्यास धर्मशाला में रुकते है और सुबह होते ही दर्शन करके ब्रम्हदेव आ जाते है फिर शाम को अपने घर की ओर लौट जाते है. उत्तराखंड सरकार आपातकालीन सेवा 100 पुलिस ,108 एम्बुलेंस और 102 जननी सुरक्षा यदि शुरू न हो तो शुरू कराया जाये.

  • समस्या एवं सुधार
  • नि:शुल्क ठंडापानी रोड (ठुलीगाड़ से टुन्यास तक) में व्यवस्था हो
  • नि:शुल्क शौचालय बनबाया जाये
  • पैदल यात्रियों(ठुलीगाड़ से टुन्यास के बीच-बीच में पानी वाले हैंडपंप में सुधारहोना चाहिए
  • सरकार द्वारा धर्मशाला शौचालय /स्नानागार बनबाया जाये
  • 108 एम्बुलेंस (चिकित्सा सेवा) आपातकालीन सेवा  उपलब्ध हो
  • 100 (पुलिस) आपातकालीन सेवा उपलब्ध हो
 
अनिल सिंह राठौर रुद्रपुर, जिला-उधमसिंहनगर (उत्तराखंड) 08/05/2017 को पूर्णागिरी में दर्शन करने के लिए परिवार से 10 सदस्य आये. ये चार वर्ष से लगातार दर्शनों के लिए आ रहे है. आप एक रात टुन्यास धर्मशाला में विश्राम भी किये है. यहाँ की सफाई व्यवस्था ,पानी ,शौचालय और स्नानागार अच्छा है. मंदिर से लौटते वक्त थोडा थकान भी महसूस हुआ. इनके परिवार के पूर्णागिरी में  कुछ समस्या एवं सुधार कराने की निम्न बात किये हैसमस्या एवं सुधार

  • ठुलिगाड और  टुन्यास के प्रवेश द्वार में सामान चेक करने वाली मशीन (जैसे दिल्ली के मैट्रो स्टेशन में) होनी चाहिए
  • दुकानदार द्वारा प्रसाद 251 रुपये का दिया गया जबकि वही प्रसाद अगर टनकपुर में लिया जाए तो 50 रुपये का मिलेगा. उचित रेट में प्रसाद दिया जाय
  • धर्मशाला में सबसे पहले अच्छे स्थान पर रोका जाता है और मंदिर में दर्शन करके वापस आने पर दुसरे जगह में भेज दिया जाता है. उसमे शौचालय की सुविधा अच्छी नही होती है
  • धर्मशाला के अन्दर शौचालय /स्नानागार में पानी कम उपयोग करने देते है
  • चिकित्सा सेवा उपलब्ध नही
 
मुकेश कुमार ग्राम -अतरौली जिला अलीगढ (उत्तर प्रदेश) से परिवार के 07 सदस्यों के साथ आये है. यहाँ दूसरी बार आये है. इनकी बहन नीरज का स्वास्थ रात में ख़राब होने से उल्टी होने लगी. इसके रोकथाम के लिए टनकपुर से टुन्यास धर्मशाला तक दवा की खोज करते रहे लेकिन दवा नही मिली जबकि जिला पंचायत द्वारा चिकित्सा सेवा उपलब्ध करायी गयी लेकिन वहां पर कोई भी उपस्थित नही थासमस्या एवं सुधार

  • नि:शुल्क ठंडापानी की व्यवस्था हो
  • चिकित्सा सेवा उपलब्ध हो
 
ओम प्रकाश ग्राम-नगलावाले शाबरगेट, जिला-कासगंज (उ०प्र०) परिवार से 08 सदस्य पूर्णागिरी मेंले में पहली बार आये हुए है I इनके द्वारा बताया गया की जब श्रद्धालू मंदिर से दर्शन करके वापस  लौटते समय जितने रास्ते में धर्मशाला पड़ते है तो किसी को बैठने नही दिया जाता है उनका कहना है की आप जहां अपना सामान (प्रसाद) लिए है वहां जा कर बैठो और भगा दिया जाता है  
आकाश जिला सम्भलपुर (उ०सि०न०) पूर्णागिरी मेले में चौथी बार अपने 55 मित्रो के साथ माँ के दर्शन करने आये. एक रात टुन्यास धर्मशाला में रुके वहां की सफाई व्यवस्था अच्छी थी. उन्होंने ये निम्न जानकारी दिए –

  1. चिकित्सा सेवा उपलब्ध नही
  2. दर्शन करने वाले श्रद्धालूओ की लाइन महिला/पुरुष की अलग-अलग लगाई जाये मंदिर में चढ़ने बाला एक प्रसाद को सालों-साल (प्रसाद (नारियल) दुकानदार से लेकर श्रद्धालू मंदिर  में चढ़ाता है लेकिन वैसे का वैसे पुजारी द्वारा फिर वाही  प्रसाद वापस उसी दुकान में चला जाता है) चलाया जाता है
  3. श्रद्धालूओ को दर्शन 1 मिनट भी नही करने दिया जाता है
 
अशोक कुमार (पूर्णागिरी मेला 80 सफाई कर्मचारियो का ढेकेदार) ठुलीगाड़, टुन्यास  से पूर्णागिरी मंदिर तक इनके 80 सफाई कर्मचारी सफाई व्यवस्था (रोड सफाई) में लगे है जिनको 7000-9000 रूपये प्रत्येक व्यक्ति को मिलता है. जब इनसे जानकारी लिया गाया तो इनका कहना है कि जिला पंचायत चम्पावत से ठेका में मुझे  ठुलीगाड़,  टुन्यास से पूर्णागिरी मंदिर तक का है. * (ठोस कूड़े के निस्तारण पर रुपये 16,51,052.00 का व्यय आता है जिसके निस्तारण के लिए मेला अवधि में 80 सफाई कर्मचारी नियुक्ति किये गए है. उन्होंने बताया की मल-जल निस्तारण हेतु सैफ्टिक टैंक बनाये गए है लेकिन सीवर नही लगाया गया है)यहाँ सफाई के दौरान जो भी कूड़ा निकलता है उसके निस्तारण के लिए कुछ नही है बल्कि समस्त कूड़ा नदी में फेक दिया जाता है और बरसात के पानी के साथ पूरा कूड़ा-कचरा बह जाता है I नदी का पानी मठ-मैला हो जाता है जो पीने योग्य नही रहता है.

प्रबन्धन (सफाई-कर्मचारियों) द्वारा मेला आधिकारी को कई बार अवगत कराया गया लेकिन अभी विभाग द्वारा कोई कार्यवाही नही हुयी है I  ठुलीगाड़ में नल जल योजना (बड़ी पानी की टंकी ) के तहत बनबाया जाये ताकि पानी पीने का स्वच्छ मिल सके. अभी झरने का पानी मिल रहा है जो बरसात के समय वो भी ख़राब हो जाता हैं.

 
महिला सशक्तिकरण बाल विकास परियोजना (आँगनवाड़ी कार्यकर्ता समस्त )  बहुउद्देशिय शिविर – श्री मती ममता देवी आँगनवाडी कार्यकर्ता  केंद्र सियाला एवं श्रीमती आरती देवी  आँगनवाडी कार्यकर्ता  केंद्र तुमडानीगेटबहुउद्देशिय शिविर महिला सशक्तिकरण बाल विकास परियोजना (आँगनवाड़ी कार्यकर्ता समस्त ) जनपद पंचायत टनकपुर-बनबसा द्वारा  आयोजन पूर्णागिरी मेले के शुरुआत से अंतिम तक एक दिन में दो  आगनवाडी कार्यकर्ता द्वारा ठुलीगाड़ मेला आधिकारी के बगल में शिविर  लगाया जाता है. श्रीमती ममता देवी आँगनवाडी कार्यकर्ता  केंद्र – सियाला एवं श्रीमती आरती देवी  आँगनवाडी कार्यकर्ता  केंद्र -तुमडानीगेट को उपस्थित है .

प्रत्येक आँगनवाडी कार्यकर्ता द्वारा पूर्णागिरी मेले से आने वाले श्रद्धालू से बात-चीत कर उनको भी बाल विकास परियोजना के बारे में ये निम्न जानकारी देते है 

  1. पूरक पोषण आहार
  2. स्वास्थ्य जांच
  3. संदर्भ सेवाएँ
  4. टीकाकरण
  5. पोषण एवं स्वास्थ्य शिक्षा
  6. स्कूल पूर्व अनौपचारिक शिक्षा
  7. कन्या भ्रूण हत्या आदि I 

नोट :- * जिले के विभिन्न आंगनबाड़ी केन्द्रों में पंजीकृत बच्चों की संख्या 23 424 है। इसमें 4560 कुपोषित तथा 301 अतिकुपोषित हैं। यह आंकड़े वर्ष 2013 से 2017 जनवरी तक के हैं। पिछले चार वर्षों में कुपोषित और अतिकुपोषित बच्चों की संख्या में काफी कमी दर्ज की गई है। जिले में 397 पूर्ण आंगनबाड़ी केन्द्र एवं 284 मिनी आंगनबाड़ी केन्द्र हैं

 
Bhuvan Garkoti from Banbasa is telling about the ongoing Purnagiri mela where people from various Indian states and Nepal visit the temple. He is informing that if some children are separated, one can take help of police beat located at Thuligad. He also tells about human trafficking in this border area and request for any information about such instances which will help save few lives from falling into the trap of evil hands.  
Mahesh ram from Sirmoda village is telling that they have stopped consuming water from a source because of a thick white brown deposit settled in the tank and many times they have to clean the pipes too as chunks/pieces come alongwith water through pipes. This village is enroute Jhulaghat.  
Bachi S Bisht is giving information about a small meeting in Rameshwar (Confluence of Saryu and Eastern Ramganga) on 22 April and asking the local groups to come and participate.  
Umed singh negi from gram sabha chakarpur bilhari is telling about poor state of health, road, electricity and other basic services in the village  
Message from a resident in Mahakali basin telling about probably submergence of area due to the proposed dam and that better rehabilitation package must be ensured whenever the project materialises and possible employment must be thought about for long term sustenance  
Ganesh Bohra from Chuka at the foothill across Purnagiri shrine is telling about the chalthi and Ladhiya valley and how people are struggling with wild boar problem in the region. Click here to read news about the issue.  
Bachi Singh Bisht from Ganai Gangoli is telling about the river confluence meetings on the issues in valleys from 16th April to 26th April at 3-4 places, pl listen for more details.  
Rajendra Prasad from Ladhiya valley is apprising of the 5th March conclave where suggestions were given by participants to form a committee to formulate a plan for valley. He briefly gave broad examples of floriculture, horticulture and cottage industry. Read News related to the issue  
बची सिंह बिष्ट शेराघाट घाटी में बैठक के बारें में बता रहे है  जिसमे जयगंगा, जयगढ़, सरयू एवं सुरूर घाटी के साथी अपनी समस्याओं पर चर्चा कर रहे हैं.  
दीवान सिंह मेहता सेराघाट, सरयू घाटी के रहने वाले हैं और उनका कहना है कि यहाँ प्रदुषण की समस्या है और उन्होंने गंगा सफाई अभियान को एक अच्छा कदम बताया और बाकी सभी लोगों को जुड़ने और साफ़ सफाई रखने की गुज़ारिश की।  
ललित पन्त जी ने डूब क्षेत्र को कहाँ विस्थापित किया जाएगा उस पर सूचना मांगी है (पर वह किस क्षेत्र की बात कर रहे हैं उन्होंने नहीं बताया)  
गांव भूसैल  के मोहन राम जी बता रहे हैं कि वहां की जो कैनाल है वह सड़क निर्माण के कार्य के चलते ध्वस्त हो गई है पर उसकी सुध लेने वाला कोई नहीं है. विभाग को इसके बारे में कुछ करना चाहिए नहीं तो सड़क तो बनेगी पर ऐसे अन्य अवसंरचनाएं बेकार होती जाएँगी.  Read news related to the issue News 1, News 2  
नई दिल्ली से पूजा गुप्ता बता रही हैं की  पिछले सप्ताह उत्तराखण्ड के चम्पावत जिले में कुछ स्थानीय निवासियों के साथ एक जन सम्मेलन का आयोजन किया गया था जिसके माध्यम से ये जानकारी मिली कि यहाँ जानवरों का आतंक काफी बढ़ गया है विशेष कर सूअरों का आतंक ! इसके अलावा जलवायु परिवर्तन से जो स्थिति हुई है उससे कृषि पर काफी प्रभाव पड़ा है ! लोगो ने यह भी बताया की अगर उन्हें मत्स्य पालन की सुविधा,फलों और फूलो से चलने वाले छोटे-छोटे स्थानीय उद्योग की सुविधा दी जाए तो उनके लिए अच्छा होगा !  
राधा खनका उत्तरापंथ सेवा संस्था (मुवानी) से जुडी हैं और वह सूअर व अन्य जंगली जानवरों से उत्पन्न हुई समस्या का विवरण कर रही हैं। यह भी बता रहीं हैं कि जंगल कटने से जल और जल वायु परिवर्तन हो रहा है, भूस्खलन पेड़ों के काटने से बढ़ता जा रहा है – १० साल पहले के जंगल हरे भरे थे